वह सुमन खो गया!

जो हज़ारों चमन से महकदार था,
क्या किसी से कहें वह सुमन खो गया|

रामावतार त्यागी

Leave a Reply