वातावरण खो गया!

घर वही, तुम वही, मैं वही, सब वही,
और सब कुछ है वातावरण खो गया|

रामावतार त्यागी

Leave a Reply