हमारा तुम्हारा गगन खो गया!

यह जमीं तो कभी भी हमारी न थी,
वह हमारा तुम्हारा गगन खो गया|

रामावतार त्यागी

Leave a Reply