देखी थी बरसात मुझे होश नहीं!

आँसुओं और शराबों में गुजारी है हयात,
मैंने कब देखी थी बरसात मुझे होश नहीं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply