मेरी छत पे टहलते क्यों हैं!

नींद से मेरा त’अल्लुक़ ही नहीं बरसों से,
ख्वाब आ आ के मेरी छत पे टहलते क्यों हैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply