यहीं आके फिसलते क्यों हैं!

मोड़ होता है जवानी का संभलने के लिए,
और सब लोग यहीं आके फिसलते क्यों हैं|

राहत इन्दौरी

2 Comments

Leave a Reply