फ़र्ज़ करो हम अहले वफ़ा हों!

फ़र्ज़ करो हम अहले वफ़ा हों, फ़र्ज़ करो दीवाने हों,
फ़र्ज़ करो ये दोनों बातें झूठी हों अफ़साने हों|

इब्ने इंशा

Leave a Reply