रुख़सत का समां याद रहेगा!

उस शाम वो रुख़सत का समां याद रहेगा,
वो शहर, वो कूचा, वो मकाँ याद रहेगा|

इब्ने इंशा

Leave a Reply