अजब तिश्नगी है और मैं हूं!

किसी मक़ाम पे रुकने को जी नहीं करता,
अजीब प्यास, अजब तिश्नगी है और मैं हूं|

कृष्ण बिहारी ‘नू
र’

Leave a Reply