अब वापसी है और मैं हूं!

ये लम्हा ज़ीस्त का बस आख़िरी है और मैं हूं,
हर एक सम्त से अब वापसी है और मैं हूं|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply