अब शायरी है और मैं हूं!

जहां न सुख का हो अहसास और न दुख की कसक,
उसी मक़ाम पे अब शायरी है और मैं हूं|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply