कोई रौशनी है और मैं हूं!

मेरे वुजूद को अपने में जज़्ब करती हुई,
नई-नई सी कोई रौशनी है और मैं हूं|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply