बाज़ी बिछी है और मैं हूं!

मुक़ाबिल अपने कोई है ज़ुरूर कौन है वो,
बिसाते-दहर है, बाज़ी बिछी है और मैं हूं|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply