होठों पे खिलते गुलाब रखते हैं!

वो पास बैठें तो आती है दिलरुबा ख़ुश्बू,
वो अपने होठों पे खिलते गुलाब रखते हैं|

हसरत जयपुरी

Leave a Reply