आँसुओं में लहू छुपा देखा!

ज़ख़्मे-दिल आ गया है आँखों तक,
आँसुओं में लहू छुपा देखा।

नक़्श लायलपुरी

Leave a Reply