कुछ दूर माहताब के साथ!

ज़मीन तेरी कशिश खींचती रही हमको,
गए ज़रूर थे कुछ दूर माहताब के साथ|

शहरयार

Leave a Reply