रिश्ता था जब सराब के साथ!

तो फिर बताओ समंदर सदा को क्यूँ सुनते,
हमारी प्यास का रिश्ता था जब सराब के साथ|

शहरयार

Leave a Reply