अहसास कहीं कुछ कम है!

ज़िंदगी जैसी तवक्को थी नहीं, कुछ कम है,
हर घड़ी होता है अहसास कहीं कुछ कम है|

शहरयार

Leave a Reply