ज़्यादा है, कहीं कुछ कम है!

अब जिधर देखिए लगता है कि इस दुनिया में,
कहीं कुछ ज़्यादा है, कहीं कुछ कम है|

शहरयार

Leave a Reply