यकीं कुछ कम है!

बिछड़े लोगों से मुलाक़ात कभी फिर होगी,
दिल में उम्मीद तो काफी है, यकीं कुछ कम है|

शहरयार

Leave a Reply