ऐसा ही ये मंज़र बोलते हैं!

नया इक हादिसा होने को है फिर,
कुछ ऐसा ही ये मंज़र बोलते हैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply