दुनिया कभी घर बोलते हैं!

सराये है जिसे नादां मुसाफ़िर,
कभी दुनिया कभी घर बोलते हैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply