बस्ती में ख़ंजर बोलते हैं!

ज़ुबां ख़ामोश है डर बोलते हैं,
अब इस बस्ती में ख़ंजर बोलते हैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply