कोई होता गुनहगार सा!

मैं फरिश्तों की सुहबत के लायक नहीं,
हमसफ़र कोई होता गुनहगार सा|

बशीर बद्र

Leave a Reply