लगता था दरबार सा!

अब है टूटा सा दिल खुद से बेज़ार सा,
इस हवेली में लगता था दरबार सा|

बशीर बद्र

Leave a Reply