जहाँ गए जाकर पछताए!

झूठे जग में सच्चे सुख की,
क्या तो कोई आस लगाए ।

देवालय हो या मदिरालय,
जहाँ गए जाकर पछताए ।

बालस्वरूप राही

Leave a Reply