अपनी भी तबियत नहीं मिलती!

कुछ लोग यूँ ही शहर में हमसे भी खफा हैं,
हर एक से अपनी भी तबियत नहीं मिलती|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply