शहर अचानक तनहा लगता है!

और तो सब कुछ ठीक है लेकिन कभी-कभी यूँ ही,
चलता-फिरता शहर अचानक तनहा लगता है|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply