सजाने को मुसीबत नहीं मिलती!

निकला करो ये शम्अ लिए घर से भी बाहर,
तन्हाई सजाने को मुसीबत नहीं मिलती|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply