शैख़ ने चुपके चुपके दुआ दी!

झूम के जब रिंदों ने पिला दी,
शैख़ ने चुपके चुपके दुआ दी|

कैफ़ भोपाली

Leave a Reply