काएँ-काएँ करने लगे!

अजीब रंग था मजलिस का, ख़ूब महफ़िल थी,
सफ़ेद पोश उठे काएँ-काएँ करने लगे|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply