इस दौर में जीना मुश्किल है!

यह दौरे खिरद है, दौरे-जुनूं इस दौर में जीना मुश्किल है,
अंगूर की मै के धोखे में ज़हराब का पीना मुश्किल है|

अर्श मलसियानी

Leave a Reply