ख़ामोशी भी है आवाज़ भी है!

मोहब्बत सोज़ भी है साज़ भी है,
ये ख़ामोशी भी है आवाज़ भी है|

अर्श मलसियानी

Leave a Reply