जलने का क़रीना मुश्किल है!

वह शोला नहीं जो बुझ जाए आँधी के एक ही झोंके से,
बुझने का सलीका आसाँ है, जलने का क़रीना मुश्किल है|

अर्श मलसियानी

Leave a Reply