पाबन्दी-ए-परवाज़ भी है!

नशेमन के लिये बेताब ताईर,
वहाँ पाबन्दी-ए-परवाज़ भी है|

अर्श मलसियानी

Leave a Reply