हमदम कोई हमराज़ भी है!

दिल-ए-बेगाना-ख़ूँ, दुनिया में तेरा,
कोई हमदम कोई हमराज़ भी है|

अर्श मलसियानी

Leave a Reply