बलायें थीं आसमानी भी!

दिल को अपने भी ग़म थे दुनिया में,
कुछ बलायें थीं आसमानी भी।

फ़िराक़ गोरखपुरी

2 Comments

Leave a Reply