एक अंदाजे-तुर्कमानी भी!

सर से पा तक सिपुर्दगी की अदा,
एक अंदाजे-तुर्कमानी भी।

फ़िराक़ गोरखपुरी

2 Comments

Leave a Reply