कर गये लोग हुक्मरानी भी!

दिल को आदाबे-बन्दगी भी न आये,
कर गये लोग हुक्मरानी भी।

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply