मेहमानी भी मेज़बानी भी!

पास रहना किसी का रात की रात,
मेहमानी भी मेज़बानी भी।

फ़िराक़ गोरखपुरी

Leave a Reply