कोई घर भी जलाना नहीं आता!

तारीख़ की आँखों में धुआँ हो गए ख़ुद ही,
तुमको तो कोई घर भी जलाना नहीं आता।

वसीम बरेलवी

Leave a Reply