उनमें नींद पराई है!

यों लगता है सोते जागते औरों का मोहताज हूँ मैं,
आँखें मेरी अपनी हैं पर उनमें नींद पराई है|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply