गुंचा तेरे होठों पर खिला करता है!

जो भी गुंचा तेरे होठों पर खिला करता है,
वो मेरी तंगी-ए-दामाँ का गिला करता है|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply