झूमर तेरे माथे पे हिला करता है!

रात यों चाँद को देखा है नदी में रक्साँ,
जैसे झूमर तेरे माथे पे हिला करता है|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply