दिल के धड़कने का गिला करता है!

मैं तो बैठा हूँ दबाये हुये तूफ़ानों को,
तू मेरे दिल के धड़कने का गिला करता है|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply