बिखरने से न रोके कोई!

अक़्स-ए-ख़ुशबू हूँ, बिखरने से न रोके कोई,
और बिखर जाऊँ तो, मुझको न समेटे कोई|

परवीन शाकिर

2 Comments

Leave a Reply