राह से वो शख़्स गुज़रता भी नहीं!

अब तो इस राह से वो शख़्स गुज़रता भी नहीं,
अब किस उम्मीद पे दरवाज़े से झाँके कोई|

परवीन शाकिर

Leave a Reply