अपना ही फ़साना है!

जो उन पे गुज़रती है किसने उसे जाना है,
अपनी ही मुसीबत है अपना ही फ़साना है|

जिगर मुरादाबादी

Leave a Reply