आहों का ज़माना है!

आग़ाज़-ए-मोहब्बत है आना है न जाना है,
अश्कों की हुकूमत है आहों का ज़माना है|

जिगर मुरादाबादी

Leave a Reply