नाज़ुक सा फ़साना है!

आँखों में नमी सी है चुप चुप से वो बैठे हैं,
नाज़ुक सी निगाहों में नाज़ुक सा फ़साना है|

जिगर मुरादाबादी

Leave a Reply